Optional Trading(ऑप्शन ट्रेडिंग) में ITM, ATM और OTM  क्या होता हैं?

OPtional trading in banknifty

शेयर मार्केट में कई नए ट्रेडर होते हैं जो Optional Trading करते हैं, लेकिन अधिकांश लोगों को नुकसान होता है। इसका सबसे बड़ा कारण होता है कि उन्हें ऑप्शन ट्रेडिंग के मूल ज्ञान की कमी होती है और वे ऑप्शन ट्रेडिंग के बारे में पूरी जानकारी नहीं रखते हैं। फिर भी, वे बहुत पैसा लगाकर ऑप्शन्स में ट्रेड करने की गलती करते हैं और नुकसान उठाते हैं।

तो अगर आप भी ऑप्शन ट्रेडिंग में नुकसान कम करके प्रॉफिट कमाना चाहते हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए है। आज हम इस पोस्ट में जानेंगे कि ऑप्शन ट्रेडिंग में ITM, ATM, और OTM क्या होते हैं। इन शब्दों का पूरा नाम क्या होता है और ये कैसे काम करते हैं, साथ ही जानेंगे कि कौन सा ऑप्शन खरीदने से ज्यादा फायदा होता है।

यदि आप ऑप्शन ट्रेडिंग में नये हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण हो सकती है। कृपया पूरी पोस्ट को ध्यान से पढ़ें, क्योंकि इस पोस्ट के अंत तक आपकी ऑप्शन ट्रेडिंग संबंधी मूल अवधारणाएं स्पष्ट हो जाएंगी।

QNA. Full form of ITM, ATM, OTM

  • ITM: In The Money
  • ATM: At The Money
  • OTM: Out The Money

आप ITM, ATM और OTM पर Call option (CE) और Put option (PE) दोनों खरीद सकते हैं। इन तीनों ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट्स में प्रीमियम के मूल्य अलग-अलग होते हैं। इसका कारण यह है कि इन ऑप्शन कॉन्ट्रैक्ट्स की मूल विशेषताएं और विपणन में प्रासंगिकता भिन्न होती हैं।

जब आप कॉल ऑप्शन खरीदते समय आप उम्मीद करते हैं कि उत्पाद की कीमत बढ़ेगी, जिसके लिए आप प्रीमियम भुगतान करते हैं। कॉल ऑप्शन का मूल्य मुख्य रूप से उपजाऊता, मूल्यों के वृद्धि की संभावना, उत्पाद की विपणन में दिखावटी मूवमेंट और समय के साथ गहराई से प्रभावित होता है। इसलिए, कॉल ऑप्शन की प्रीमियम उन सभी तत्वों पर निर्भर करती है।

वहीं, पुट ऑप्शन खरीदते समय आप उम्मीद करते हैं कि उत्पाद की कीमत घटेगी और आप इसके लिए प्रीमियम भुगतान करते हैं। पुट ऑप्शन का मूल्य मुख्य रूप से उत्पाद की कीमत के नीचे जाने की संभावना, मूल्यों के कम होने की संभावना, विपणन में दिखावटी मूवमेंट और समय के साथ गहराई से प्रभावित होता है। इसलिए, पुट ऑप्शन की प्रीमियम उन सभी तत्वों पर निर्भर करती है।

Optional Trading Basic

यदि आप एक ऑप्शन खरीदने का चयन करते हैं, तो आपको ऑप्शन खरीदने वाले कहा जाते हैं। यदि आप एक ऑप्शन बेचने का चयन करते हैं, तो आपको ऑप्शन बेचने वाले कहा जाते हैं।

Optional Trading में, लगभग 70-80% लोग ऑप्शन खरीदते हैं, जबकि केवल 20-25% लोग ऑप्शन बेचते हैं। इसका मतलब है कि शेयर बाजार में, 75-80% लोग ऑप्शन खरीदने वाले होते हैं, जबकि केवल 20-25% लोग ऑप्शन बेचने वाले होते हैं।

ऑप्शन खरीदने वालों की संख्या इतनी अधिक होने का कारण यह है कि कोई भी छोटे राशि से ऑप्शन खरीद सकता है। वास्तव में, आप लगभग 5000 रुपये के साथ भी ऑप्शन खरीदना शुरू कर सकते हैं।

वहीं, ऑप्शन बेचने के लिए आपको अधिक मात्रा में पैसे की आवश्यकता होती है, लगभग 1 लाख रुपये। इसलिए, ऑप्शन ट्रेडिंग में नए लोग ज्यादातर ऑप्शन खरीदने से ही शुरुआत करते हैं।

Optional Trading (ITM, ATM, OTM) Full Explanation

आपको ITM (In-the-Money), ATM (At-the-Money) और OTM (Out-of-the-Money) कॉन्सेप्ट समझने के लिए हम निम्न उदाहरण को देखेंगे:

मान लीजिए बैंक निफ्टी वर्तमान में 45,000 पर ट्रेड हो रही है, इसका मतलब है कि बैंक निफ्टी की स्पॉट कीमत 45,000 है। इस स्थिति में सिर्फ दो संभावनाएं हो सकती हैं: या तो बैंक निफ्टी ऊपर जाएगी या फिर नीचे जाएगी।

अगर आपको लगता है कि बैंक निफ्टी ऊपर जाएगी, तो आप कॉल ऑप्शन खरीदेंगे, जिसे सीई (CE) कहते हैं। इसके लिए, आप अपने ब्रोकर ऐप में जाएंगे और F&O सेक्शन में जाकर BANK NIFTY 45,000 CE टाइप करेंगे।

जैसे ही आप इसे टाइप करेंगे, आपको स्क्रीन पर बैंक निफ्टी के सभी 45,000 कॉल ऑप्शन (CE) दिखेंगे। इसके साथ ही आपको इस कॉल ऑप्शन की समाप्ति तिथि भी दिखेगी।

45,000 के सबसे नजदीकी समाप्ति तिथि वाला कॉल ऑप्शन ऊपर दिखेगा और बाकी सप्ताहांत की समाप्ति तिथियों वाले कॉल ऑप्शन नीचे दिखेंगे।

स्क्रीनशॉट में आप देखेंगे कि बैंक निफ्टी 45,000 CE का प्रीमियम 87 रुपये है, यानी इस ऑप्शन को खरीदने के लिए आपको 87×25 रुपये देने पड़ेंगे।

अब जब आपको लगता है कि मार्केट ऊपर जाएगा, तो बजाय 45,000, अगर आप 45,100 के लिए Banknifty CE सर्च करते हैं, तो आपको इस 45,100 के प्रीमियम को खरीदने के लिए 50×25 रुपये देने होंगे।

कुछ लोग सोच सकते हैं कि 45,000 के CE का प्रीमियम 87 रुपये था लेकिन 45,100 के CE का प्रीमियम 50 रुपये है |

अब आपका सवाल होगा: अगर मुझे लगता है कि बैंक निफ्टी ऊपर जाएगी तो मैं कौन सा कॉल ऑप्शन खरीदूं – 45,000, 45,100, 45,200, 45,300, 45,400, 45,900, 44,800, 44,700, आदि – जिससे मुझे फायदा हो?

ब्रोकर ऐप में सर्च करने पर आप देखेंगे कि 45,000 CE की कीमत 87 रुपये है, 45,100 CE की कीमत 50 रुपये है, 45,200 CE की कीमत 26 रुपये है और 44,900 CE की कीमत 135 रुपये है। 44,800 CE की कीमत 205 रुपये है, जिसका मतलब है कि प्रत्येक ऑप्शन की कीमत अलग है।

Example

चलिए मान लें कि वर्तमान में TATA Motors का शेयर कीमत 625 रुपये है। जब आप TATA Motors का कॉल ऑप्शन खरीदेंगे, तो आपको सिर्फ 16.95 रुपये का प्रीमियम देना होगा।

लेकिन याद रखें कि आप एक शेयर नहीं खरीद सकते, आपको लॉट में खरीदना होगा। TATA Motors का लॉट साइज 1425 है, इसलिए आपको कम से कम 16.95x 1425 = 24154 रुपये देने होंगे।

ऑप्शन ट्रेडिंग में आपका जितना पैसा लगता है, उससे ही आपका रिस्क और रिवार्ड बढ़ता है। यानी अगर TATA Motors का CE जिसे आपने 16.95 रुपये के प्रीमियम प्राइस पर खरीदा है, अगर वह 20 रुपये हो जाता है, तो आपको 3×1425 = 4275 रुपये का प्रॉफिट होगा एक लॉट खरीदने पर।

लेकिन यदि आपने 10 लॉट खरीदे होते, तो प्रीमियम का प्राइस 3 रुपये ही बढ़ने पर आपका प्रॉफिट 42750 रुपये होता। यह स्पष्ट है कि आपको अधिक प्रॉफिट कमाने के लिए अधिक पैसा लगाना पड़ता है।

हालांकि, यदि 3 रुपये की हानि हो जाती है, अर्थात् प्रीमियम का प्राइस 16.95 रुपये से कम होकर 14 रुपये हो जाता है और आपने TATA Motors का एक लॉट खरीदा है, तो आपको 3×1425, यानी 4275 रुपये का नुकसान होगा।

Optional Trading में आपका प्रॉफिट या नुकसान कुछ ही मिनटों में हो सकता है, क्योंकि प्रीमियम के प्राइस की गतिविधि बहुत तेज होती रहती है। यहां तक कि ऑप्शन ट्रेडिंग में आप कुछ ही मिनटों में लाखों रुपए का प्रॉफिट कमा सकते हैं या फिर लाखों रुपए का नुकसान हो सकता है।

अब कुछ लोग सोच रहे होंगे कि मैंने तो कहा था कि आप 5000 रुपये से भी ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं, और यहां पर तो हमें लॉट में खरीदना पड़ता है, जिसके लिए हमें हजारों रुपये की आवश्यकता होती है।

आपकी सोच ठीक है, लेकिन यह भी सच है कि आप मिनिमम 5000 रुपये लगाकर ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते हैं। याद रखें कि जैसा कि मैंने पहले बताया था, जैसे-जैसे आप OTM में ऊपर जाते हैं, प्रीमियम की कीमत उतनी ही कम होती जाती है, और जैसे-जैसे आप ATM से नीचे आते हैं, प्रीमियम की कीमत उतनी ही बढ़ती जाती है।

अगर आप Banknifty के कुछ OTM देखेंगे, तो वहां आपको 10 रुपये या 20 रुपये के भी मिल जाएंगे। जी हां, यदि आप बहुत ज्यादा OTM (Out the Money) स्ट्राइक प्राइस के प्रीमियम देखेंगे, तो इतने सस्ते ऑप्शन्स भी देखने को मिलेंगे।

और बैंक निफ़्टी का लॉट साइज 25 के हिसाब से, आप 100 रुपये में आसानी से एक लॉट खरीद सकते हैं। इसलिए प्रमाणित हो गया कि 5000 रुपये से भी ऑप्शन ट्रेडिंग की जा सकती है।

हालांकि, मैं आपको बताना चाहूँगा कि इतने सस्ते ऑप्शन्स में निवेश करने का कोई मतलब नहीं है, आपका पैसा केवल बर्बाद होगा। आपके पैसे बढ़ने के चांस बहुत ही कम होंगे।

आपको कौन सा Option खरीदना चाहिए

अगर आपको लगता है कि बैंकनिफ्टी का बाजार 45000 से ऊपर जा सकता है तो हमेशा 44900 का CE खरीदें और अगर आपको लगता है कि बाजार 45000 हजार से गिर जाएगा तो आपको 45100 का PE खरीदना होगा। अगर आप इस प्रकार से व्यापार करते हैं तो आपको लाभ मिलेगा। 

सारांश(Conclusion)

Optional Trading में लाभ की संभावनाएं होती हैं, लेकिन इसमें जोखिम भी होता है और इसके लिए ज्ञान और अनुभव की आवश्यकता होती है। धैर्य, निरंतर सीखना, और एक धारणा से युक्त रणनीति, ऑप्शन ट्रेडिंग में सफलता के लिए महत्वपूर्ण हैं।

QNA. ITM, ATM और OTM में से कौन सा ऑप्शन खरीदना चाहिए?

  • इस फैसले के लिए आपको ऑप्शन के रिस्क, लागत और मुनाफे की आकलन करनी चाहिए और उस विश्लेषण के आधार पर Trade लेना चाहिए।

About The Author

2 thoughts on “Optional Trading(ऑप्शन ट्रेडिंग) में ITM, ATM और OTM  क्या होता हैं?”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top